causes-2
  • विभिन्न देव - देवियों संबधी सहज श्लोक, रामायण और महाभारत की महत्वपूर्ण घटनाएँ चुनकर दोहराना तथा नामावली भजन / आदर्श मूल्य संबधी गीतों का परिचय;
  • संतों / महापुरुषों की कहानियाँ व अलग अलग धर्मों की एकता पर जोर;
  • भगवान श्री सत्य साई बाबा के जीवन व सीख का परिचय;

समाप्ति पर :


  • भगवद्गीता के बहमूल्य उपदेशों का दैनिक जीवन में प्रयोग
  • विभिन्न धर्मों के त्यौहारों / पर्वों के सभी महत्वपूर्ण परम्पराओं व विशेषताओं की सही जाँच करके स्वीकार करना
  • अन्तरात्मा की आवाज का आज्ञा पालन कर, सही व गलत कार्य में सटीक निर्णय लेने की क्षमता
  • १. भक्ति
  • २. विवेक शक्ति
  • ३. अनुशासन
  • ४. दृढनिश्चय
  • ५. दैनिक जीवन में कर्त्तव्य परायणता - इन पांच "डी " रूपी मार्गदर्श सिद्धांतों की भूमिका एवं प्रस्तुति।

ईश्वर को मार्गदर्शक के रूप में व गुरु को परामर्शक के रूप में सदैव स्वीकार करना अनिवार्य है|